4.8 C
New York
Saturday, December 3, 2022

Buy now

महाराष्ट्रा अहिर जाति की व जातिवैधता प्रमाणपत्र मिलने मे होरही परेशानी की समस्या हल करे |

महाराष्ट्र : अहिर जाती को महाराष्ट्र सरकार ने वर्ष २०१३ मे भटकी जाती जमाती भ. ज.क (एन्टीसी) से स्थलांतर ईतर मागास वर्ग (ओबीसी) मे समाविष्ट किया गया था | यह निर्णय बगर बताये कोई आयोग जनसुनावनी लिया गया था | इसमें प्रशासन का कहना है की अहिर यह जाती भटकी जाती मे नही आती है तो इसमें प्रश्न निर्माण होता है की अहिर यह मुख्य जाती है इसके आधार पे कुछ जातियो ने अहिर जाति को अपनी उपजाति मे समाविष्ट किस सबूत के साथ दर्शाया है और वे किस प्रकार भटकी जाती का आरक्षण ले रहे है । अहिर यह मुख्य भटकी जाति है इसके जीतने चाहो उतने दस्तावेज महाराष्ट्र अहिर जाति समाज देने को तयार है ।
आज अहिर विधार्थियो शैक्षणिक व्यालीडीटी प्राप्त नही होरही है इसमें उनका नुकसान बोहोत होरहा है और ऑनलाइन वैधता फॉर्म ईतर मगास वर्ग का ऑप्शन भी नही प्राप्त हो रहा है इसका मुद्दा प्रशासन को ध्यान मे लेकर  इस समस्या का हल जल्दी निकालना चाहिए  | कक्षा बारावि के छात्र – छात्राएं , इंजीनियरिंग , मेडिकल लाईन मे जाने वाले छात्रा को इसमें बोहोत परेशानी का सामना झेलना पड रहा है इसकी दखल प्रशासन जल्द ले |

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,591FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles