मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने 14 मई को विशाल जनसभा को संबोधित​ किया. मुख्यमंत्री ने कहा- भाजपा वाले आजकल दाऊद (Dawood Ibrahim) के पीछे पड़े हैं. कल को अगर दाऊद भाजपा में शामिल हो जाए तो वे लोग उसे मंत्री भी बना देंगे. इस बयान पर अमरावती की निर्दलीय सांसद नवनीत राणा (Navneet Kaur Rana) ने पलटवार किया है. उन्होंने पूछा, ‘शिवसेना कुछ साल पहले तक भाजपा के साथ थी, तो क्या शिवसेना दाऊद है क्या? पीठ में खंजर घोंपना शिवसेना की आदत है.’

Advertisement

अमरावती की सांसद नवनीत कौर राणा ने कहा, ‘कल जिस ग्राउंड में उद्धव ठाकरे ने हनुमान जी का अपमान किया, आने वाले समय में हम वहीं हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे.’ मुंबई पुलिस (Mumbai Police) द्वारा अपनी गिरफ्तारी पर नवनीत राणा ने कहा, ‘आप पुरुष हैं, आपमें हमसे ज्यादा ताकत है. उद्धव ठाकरे ने सत्ता का दुरुपयोग किया है. औरंगजेब की कब्र पर फूल डालने वालों पर एक भी टिप्पणी नहीं की. उद्धव ठाकरे क्या औरंगजेब की राह पर चलने लगे हैं. शिवसेना क्या औरंगजेब सेना हो गयी है क्या?’

नवनीत कौर राणा ने कहा, ‘कल महाराष्ट्र के लाचार सीएम की लाचार सभा थी. ना किसानी, ना बेरोजगारी पर बात की. लोड शेडिंग पर कोई टिप्पणी नहीं की. खुद ढाई साल सीएम दफ्तर में नहीं गए. उनके सुपुत्र ने बोला, सीएम विदर्भ और मराठवाड़ा में गए. विदर्भ में कौन से क्षेत्र में घूमे, उन्हें एक वीडियो जारी करना चाहिए. किसानों की तकलीफ पर एक शब्द नहीं बोला. बेरोजगारी पर एक शब्द नहीं बोला. देवेंद्र फडणवीस की सरकार की तुलना महाविकास अघाड़ी सरकार में तीन गुना बेरोजगारी महाराष्ट्र में बढ़ी है.’

उन्होंने कहा, ‘संभा जी महाराज के अभिवादन का दिन था. उन्होंने औरंगजेब की मजार पर जाकर फूल चढ़ाए. औरंगाबाद का नाम संभाजी नगर रखना आपके एजेंडा में था. लेकिन आप बहुत लाचार सीएम हैं. कल सांसद ने संकटमोचन का गदा हाथ में दिया. अछूत की तरह व्यवहार किया गदा को लेकर. पूछते हैं हनुमान चालीसा पढ़ने वाले कहां चले गए? शायद वह टीवी नहीं देखते हैं. जैसे आप महाराष्ट्र के पुत्र हैं, मैं भी महाराष्ट्र की पुत्री हूं. संकटमोचन को तभी याद किया जाता है, जब राज्य संकट में हो.’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post शिक्षा जगत और फिल्म जगत के सितारों का मिलन समारोह सम्पन्न
Next post एंड्रयू साइमंड्स के अचानक निधन से सदमे है लोग