तारीख ३० नवंबर जिला अमरावती महाराष्ट्र युवा सेना का इशारा
महाराष्ट्र युवा सेना के शिष्टमंडळ सुरज मांढरे शिक्षण आयुक्त महाराष्ट्र राज्य पुणे यहा जाकर मुलाखत की व मुख्य ज्ञापन सौपा मुख्य आयुक्त से शिक्षक भरती के विषय मे विस्तार से जानकारी दि गई । २०११ की शिक्षक भरती प्रक्रिया बंदी समाप्त कर यह भरती प्रक्रिया २०१९ मे फिरसे शुरू की गई थी । परंतु बंदी समाप्ति के बाद भी पिछले चार वर्षों से शिक्षक भर्ती हुई नही है । राज्य के अहेमदनगर ३४७/२७, अकोला २८८/१२१, अमरावती ३२०/०४, औरंगाबाद ५६९/९६, बीड ४११/७५, भंडारा ३०८/००, बुलढाणा १७३/७६, चंद्रपूर २०४/००, धुळे ३२१/२७, गडचिरोली २६५/००, गोंदिया २९१/००, हिंगोली८७/००, जळगाव ३६३/१९७, जालना २०३/३१, कोल्हापूर ९७२/१८,  नागपूर ७६९/०१, नांदेड ७३२/५६, नंदुरबार ३४५/३२, नाशिक ५३१/०३, पालघर १९१६/०० ऐसे सभी जिलो मे मराठी, उर्दू विभाग की १८ हजार पद रिक्त है । यह पद ना भरने से राज्य के जिला परिषद शाला के गरीब व सर्वसामान्य लोगो के बच्चे शिक्षण से वंचित है । शाला स्कूल के शिक्षक नही होने की वजह से सर्वांगीण विकास पे परिणाम होकर शिक्षण से दूरी होने लगती है । बेरोजगार युवा वर्गों के लिए फौज निर्माण कि गई है ।
मगर डीएड , बीएड करके अनेक युवा खाजगी शाला स्कूलो मे कुछ शिक्षक रोजन्दारी वेतन पे काम कर रहे है । अनेक वर्षो से शिक्षक भरती प्रक्रिया नही होने से उम्र आयु मर्यादा समाप्ति होने से उनका भी भविष्य खतरे मे आगया है । ईसकी तुरंत गंभीर तरीके से खबर ले और महाराष्ट्र राज्य मे एक महीने के अंदर शिक्षक भर्ती करने का प्रावधान लाये ऐसी अपील की है । अन्येथा अगर यह प्रक्रिया नही होती है तो संपूर्ण राज्य मे सरकार के विरुद्ध जगह जगह तीव्र आंदोलन करेंगे ऐसा इशारा महाराष्ट्र युवा सेना के पदाधिकायो ने दिया इसमे प्रमुख युवा सेना संस्थापक अध्यक्ष दिपक मेटांगे , किरण गुडधे, नरेश आठवले, आशिष इंगळे, प्रेम वानखडे और सुरेंद्र कडु सह आदि कार्येकर्ता प्रमुखतः से उपस्थित थे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *